What is Typhoid in Hindi - टाइफाइड क्या होता है? Typhoid से कैसे बचें? टाइफाइड कैसे होता है, टाइफाइड के लक्षण व इलाज

दोस्तों, Typhoid एक बहुत ही कष्टदेय बीमारी होती है! शुरुआत में तो यह किसी साधारण बुखार की तरह लगती है! लेकिन अगर समय रहते इसका इलाज ना करवाया जाए, तो मरीज की जान भी जा सकती है!

इसलिए दोस्तों आपके लिए कम से कम Typhoid बीमारी के लक्षण जानना तो बेहद जरूरी है! ताकि आप इस बीमारी की पहचान करके, मरीज का जल्द से जल्द इलाज शुरू करवा सके!

इसलिए इस आर्टिकल में हम आपके लिए टायफायड से जुड़ी सारी जानकारी जैसे – टाइफाइड क्या होता है? (What is Typhoid in Hindi) टाइफाइड कैसे होता है? टायफायड से कैसे बचें? Typhoid के लक्षण क्या हैं? और Typhoid का इलाज क्या है? लेकर आए हैं!

Typhoid Symptoms in Hindi

[ टाइफाइड क्या होता है – Typhoid Kya Hota Hai ]

इस आर्टिकल में दी गई जानकारी को इस्तेमाल करके आप अपनी या किसी अन्य typhoid की मरीज की जान बचाने में अवश्य सहायता कर पाएंगे!

तो चलिए दोस्तों, अब बारी-बारी से जानते हैं कि टाइफाइड क्या होता है? Typhoid से कैसे बचें? टाइफाइड कैसे होता है, टाइफाइड के लक्षण व इलाज क्या क्या हैं!

टाइफाइड क्या होता है – Typhoid Kya Hota Hai

Typhoid Kya Hai – टाइफाइड एक तरह का बुखार होता है, जो सालमोनेला टायफी नामक बैक्टीरिया से संक्रमित खाना खाने या दूषित पानी पीने से होता है!

जब मरीज को टाइफाइड का बुखार होता है! तो उसके शरीर का तापमान 103 से 104 फारेनहाइट या 39 से 40 डिग्री सेल्सियस तक पहुंच जाता है!

Typhoid कैसे होता है?

जैसा कि हमने पहले ही बताया, टाइफाइड का बुखार Salmonella Typhi नामक बैक्टीरिया के शरीर में पहुंचने के कारण होता है!

यह बैक्टीरिया अकसर गंदे वाशरूम और गंदी जगहों पर पाए जाते हैं! जब कोई व्यक्ति गंदे वाशरूम को इस्तेमाल करने के बाद ठीक से हाथ नहीं धोता तो उसके हाथों में Salmonella Typhi बैक्टीरिया चिपक जाता है!

इसके बाद वो व्यक्ति जिससे भी हाथ मिलाएगा उसको यह बैक्टीरिया फैलाता जायेगा@ और अगर खुद उस गंदे हाथ से कुछ खायेगा तो उसको भी टाइफाइड बीमारी हो जायेगी!

टायफाइड के लक्षण – Typhoid Symptoms in Hindi

Salmonella Typhi बैक्टीरिया के संपर्क में आने के एक से तीन हफ्ते के अंदर व्यक्ति के अंदर टायफाइड के लक्षण के लक्षण दिखना शुरू हो जाते हैं!

टायफाइड के शुरुआती लक्षण – Early Symptoms of Typhoid in Hindi

Typhoid से ग्रसित मरीज के शुरुआती फेस में टायफाइड के लक्षण कुछ इस तरह से होते हैं –

  • बुखार, जो शुरू में कम रहता है लेकिन बाद में बढ़ते-बढ़ते Highest 104.9 F तक पहुंच जाता है!
  • कमजोरी और थकान
  • सिर दर्द
  • मांसपेशियों में दर्द
  • सुखी खांसी
  • पसीना आना
  • पेट दर्द
  • पेट का फूलना
  • भूख ना लगना और वजन कम होने लगना
  • डायरिया या पेट खराब होना
  • शरीर पर लाल रैशेज पड़ जाना

टाइफाइड के अगले फेस के लक्षण – Typhoid Symptoms of next Phase in Hindi

अगर शुरुआती फेस में ही मरीज के Typhoid का इलाज ना करवाया जाए तो मरीज में यह लक्षण देखने को मिलते हैं –

  • बेसुध हो जाना या अचेत हो जाना
  • अपनी आंखों को आधा बंद करके, गतिहीन हो जाना, हिल डुल ना पाना और लेटे रहना

अगर इस फेस में भी मरीज का इलाज ना करवाया जाए तो उसकी मृत्यु हो सकती है!

Typhoid से कैसे बचे

Typhoid से बचने के लिए, इन टिप्स को अपनी रोजमर्रा की जिंदगी में अपनाएं –

  • सिर्फ वही खाना खाएं, जिसे अच्छे से पकाया गया हो और जिसे गरमा गर्म परोसा गया हो!
  • कच्चे फलों और सब्जियों को छीलकर खाएं या छिलके के साथ सिर्फ तभी खाएं जब उन्हें साफ पानी में अच्छी तरह से धोया गया हो!
  • हमेशा Pasteurized दूध ही पिएं!
  • किसी भी ड्रिंक को सिर्फ तभी पिए, जब उसे किसी सील किए बोतल से आपके ग्लास में डाला गया हो!
  • ड्रिंक में बर्फ डालकर सिर्फ तभी पिएं, जब आपको पूरा यकीन हो कि बर्फ को साफ पानी से जमाया गया है!
  • बार-बार अपने हाथों से अपने चेहरे और मुंह को ना छूएं!
  • बाथरूम इस्तेमाल करने के बाद और खाना खाने से पहले अपने हाथों को साबुन और पानी से कम से कम 20 सेकंड तक अच्छी तरफ धोएं!
  • अगर हाथ धोने के लिए साबुन और पानी उपलब्ध ना हो तो 60% alcoholic concentration वाले सैनिटाइजर से अपने हाथों को साफ करें!
  • अगर आप किसी ऐसे जगह पर ट्रैवल करने जाने वाले हो, जो साफ सफाई के मामले में थोड़ा पीछे है, जैसे – गांव या कोई जंगली इलाका, तो ट्रैवल करने से पहले ही डॉक्टर से बात करके Typhoid की वैक्सीन लगवा लें!

टाइफाइड का घरेलू उपचार या इलाज

दोस्तों, टाइफाइड को बिना डॉक्टर के ट्रीटमेंट के सिर्फ घरेलू इलाज के जरिए ठीक नहीं नहीं किया जा सकता है!

लेकिन यहां बताए गए घरेलू उपचार का इस्तेमाल करके आपको टाइफाइड को जल्द से जल्द ठीक करने में मदद जरूर मिल जायेगी!

टाइफाइड को जल्द से जल्द ठीक करने में मददगार घरेलू उपचार या इलाज इस प्रकार से हैं –

1). Typhoid में फायदेमंद है लौंग

लौंग में ऐसे गुण पाए जाते हैं जो Typhoid के इलाज में सहायता करते हैं! 8 गिलास पानी में 8 लौंग डाल कर पानी को तब तक उबालें जब तक कि 4 गिलास पानी ना बच जाए!

इसके बाद इसे सामान्य तापमान पर लाने के बाद पूरा दिन थोड़ा थोड़ा करके एक हफ्ते तक पिएं! यह आपके टाइफाइड को काफी जल्दी ठीक कर देगा!

2). फलों का रस

टायफायड के दौरान मरीज को अकसर डिहाइड्रेशन जैसा महसूस होता है! इससे बचने के लिए मरीज को फलों का रस पिलाना सबसे ज्यादा फायदेमंद होता है! इसके अलावा मरीज के बॉडी में पानी की कमी ना होने दें!

टाइफाइड के मरीज को हमेशा फिल्टर किया गया उबला हुआ पानी ही पिलाएं!

3). पुदीना और अदरक का काढ़ा

टाइफाइड में पुदीना और अदरक का काढ़ा बनाकर पीने से भी काफी फायदा मिलता है!

इसके लिए 2 कप पानी आधा इंच अदरक का टुकड़ा पीस का मिलाएं! साथ ही इसमें पुदीने की कुछ पत्तियां भी डाल दें! अब इसे तब तक उबालें जब तक की 1 कप पानी ना बच जाए!

अब इस काढ़े को छानकर मरीज को गर्मा-गर्म पिलाएं!

टाइफाइड में हर दूसरे दिन ये काढ़ा पीने पर मरीज का काफी आराम मिलेगा!

4). Typhoid में आरामदायक है ठंडे पानी की पट्टी

Typhoid के तेज बुखार से मरीज को आराम देने के लिए ठंडे पानी की पट्टी से सेकायी करना सबसे बेहतर होता है! इससे मरीज के शरीर का तापमान सामान्य होने में काफी मदद मिलती है!

सिर्फ पर ठंडे पानी की पट्टी लगाने के साथ साथ मरीज के पूरे शरीर को गीले कपड़े से पोछना भी फायदेमंद होता है!

5). टायफायड में लहसुन खाएं

लहसुन गर्म तासीर का होता है! साथ इसमें एंटीबायोटिक गुण भी होते है टायफायड के इलाज में काम आते हैं!

4 से 5 लहसुन की कलियों को छीलकर, पीस लें और फिर इसे घी में तलकर सेंधा नमक के साथ खाएं!

Typhoid से जुड़े कुछ महत्वपूर्ण प्रश्न

प्रश्न: टाइफाइड बुखार कितने दिन तक रहता है?

उत्तर: टाइफाइड बुखार कम से कम 3 से 5 दिन तक रहता ही है! और अगर इलाज ना किया जाए तो यह बुखार ज्यादा दिनों तक भी रह सकता है!

प्रश्न: क्या टाइफाइड छूने से फैलता है?

उत्तर: जी हां! कोई ऐसा व्यक्ति जिसके हाथों पर टाइफाइड का बैक्टीरिया चिपका हुआ हो, वह जिस भी चीज को छूएगा, उसे टाइफाइड का बैक्टीरिया देते जायेगा!

प्रश्न: टाइफाइड का दूसरा नाम क्या है?

उत्तर: टाइफाइड का दूसरा नाम आंत्र ज्वर है!

निष्कर्ष – Conclusion

दोस्तों, इस आर्टिकल में हमने टाइफाइड क्या होता है? Typhoid Kya Hota Hai Typhoid से कैसे बचें? टाइफाइड कैसे होता है, टाइफाइड के लक्षण व इलाज आदि से जुड़ी विस्तृत जानकारी दी है!

हमारा यह आर्टिकल जानकारी पूर्वक लगा हो, इसे अपने मित्रों और परिचितों के साथ शेयर करके उन्हें भी Typhoid से जुड़ी इस जानकारी से अवगत कराएं!

इसके साथ ही, अगर आप Typhoid बीमारी से जुड़ा कोई भी सवाल पूछना चाहते हैं तो कमेंट करें!

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here