हेल्लो दोस्तों, आज इस आर्टिकल के माध्यम से एक महत्वपूर्ण विषय यूटीआई क्या है? (Urinary tract infection Kya Hai) के बारे में जानेंगे! मूत्रमार्ग में होने वाले संक्रमण को घरेलू उपाय से कैसे ठीक करें और साथ ही इसके लक्षण, UTI test इत्यादि के बारे में जानते है!

यह एक आम समस्या है जो महिलाओं में अधिकतर होती है! स्वछता की कमी, कार्यात्मक जीवनशैली और शारीरिक पोशाक के कारण बॉडी में यह प्रॉब्लम हो जाती है!

आप भी जानना चाहते है यूटीआई क्या है? (Urinary tract infection Kya hai) और UTI से जुड़े तथ्यों के बारे में तो हमारी इस पोस्ट में अंत तक बने रहें!

UTI क्या है – Urinary tract infection Kya Hai

यू. टी. आई. मूत्राशय (urinary bladder), मूत्रमार्ग (urethra) में होने वाला एक प्रकार का बैक्टीरियल इन्फेक्शन होता है! यह इन्फेक्शन ई-कोलाई बैक्टिरीया के कारण होता है!

ई कोलाई (एस्चेरिचिया कोलाई) बैक्टीरिया शरीर के Gastrointestinal track(जठरांत्र मार्ग) में पाया जाता है!

शरीर में उपस्थित यह बैक्टीरिया ज्यादा खतरनाक नहीं होता, लेकिन जब यह जीवाणु बाहर से शरीर के अंदर प्रवेश करता है तो शरीर में संक्रमण जैसे समस्याओ को उपन्न करता है!

यूटीआई की समस्या पुरुषों की तुलना में महिलाओं में अधिक होती है! UTI होने पर ब्लैडर और यूरेथ्रा में दर्द और जलन जैसी परेशानी होती है!

Urinary Tract Infection
Urinary Tract Infection

Urinary tract infection कैसे होता है? 

National Institute Of Diabetes And Digestive And Kidney Disease (NIDDK) के अनुसार, शरीर आमतौर पर किसी व्यक्ति के मूत्राशय तक पहुंचने से पहले बैक्टीरिया को Urination के द्वारा बाहर निकाल देता है!

लेकिन कभी कभी, शरीर ऐसा करने में असमर्थ होता है, जिस कारण यूरिनरी ट्रैक्ट इन्फेक्शन(यूटीआई) होता जाता है!

Menstrual Cup से जुड़े चौकाने वाले सवाल – FAQs in Hindi

यूरिनरी ट्रैक्ट इन्फेक्शन निम्न बैक्टीरिया के कारण हो सकता है! जो की इस प्रकार है!

  • Escherichia coli (इशरीकिया कोली)
  • protus mirabilis (प्रोटस मिराबिलिस)
  • Enterococcus faecalis (एन्तेरोकोच्चुस फैकैलिस)
  • staphylococcus saprophyticus (स्टेफिलोकोकस सैप्रोफाइटिकस)
  • Klebsiella pneumoniae (क्लेबसिएला निमोनिया)

कई अन्य कारणों से भी UTI की प्रॉब्लम हो सकती है! जैसे;

  • स्वच्छता की कमी
  • सेक्सुअल एक्टिविटीज
  • मधुमेह
  • ब्लैडर को खाली करने में कठिनाई
  • कैथेटर का उपयोग
  • किडनी में पथरी
  • अवरुद्ध यूरिन फ्लो
  • यूरिन को अधिक समय तक रोकना!
  • महिलाओं में वाइट डिस्चार्ज
  • पीरियड्स के दौरान
  • प्रेगनेंसी के दौरान
  • डिहाइड्रेशन के कारण
  • लिवर प्रॉब्लम के कारण
  • जरूरत से ज्यादा पानी पीने के कारण – जिससे किडनी पर अधिक दबाव पड़ता है  

Menstrual Cup Use करने का सही तरीका क्या है?

यूटीआई के लक्षण – Urinary tract infection symptoms

यूरिनरी ट्रैक्ट में इन्फेक्शन होने पर यूरिन से संबधित और शारीरिक  लक्षण पैदा हो जाते है! जो इस प्रकार है!

  • पेशाब करने में जलन होना! 
  • यूरिनेशन के दौरान तेज़ दर्द का होना!
  • यूरिन में स्ट्रांग स्मेल आना! 
  • पेट के निचले हिस्से में दर्द का होना!  

यूटीआई को कैसे ठीक करें? (घरेलू उपाय)

 कई बार घरेलू तरिके से संक्रमण को होने से रोका जा सकता है  जिसके लिए आपको कुछ चीजों का सेवन करना है जो की इस प्रकार है!

1.अधिक से अधिक पानी पिए!

जब यूरिनरी संक्रमण होता है तो इन्फेक्शन बढ़ाने वाले बेक्टेरिआ को शरीर से बाहर निकालने के लिए अधिक से अधिक ठंडा पानी पियें! 

पानी हमारे शरीर से बैक्टीरिया और लिवर और किडनी से खराब पदार्थो को यूरिन के थ्रौ बाहर निकाल देता है! 

पर्याप्त मात्रा में  पानी हमारे शरीर से  किसी भी बीमारी या संक्रमण को समाप्त करने का प्राकृतिक घरेलू उपाय है!

2. बार बार यूरिनेशन करें!

यूटीआई होने पर बार बार पेशाब करना चाहिए जिससे यूटीआई पैदा करने वाले कुछ बैक्टीरिया मूत्र मार्ग और ब्लैडर से निकल जाते हैं!

3. ग्रीन टि पियें!

ग्रीन टी में जीवाणुरोधी और मूत्रवर्धक गुण होते हैं! Green tea में कैटेचिन यौगिक पाया जाता है!

यह बॉडी में बैक्टीरियल इन्फेक्शन को रोकता है! और Diuretics पेशाब के माध्यम से संक्रमण को शरीर से बाहर निकालने में सहायक होते है!

इस प्रकार यूटीआई के बचाव के लिए ग्रीन टि अवश्य पियें!

4. बेकिंग सोडा का पानी पिए!

पानी में बेकिंग सोडा मिलाकर पिने पर यूरिन में एसिडिटी के स्तर में कमी आती है! बेकिंग सोडा Alkaline प्रवृती का होता है!

Note: Baking soda के 1 चम्मच को 8 औंस पानी में ऐड करें! मिश्रण को ठीक प्रकार से घोलें! सुबह उठकर एक सप्ताह तक इस घोल का सेवन करें! ध्यान रहे नमक की मात्रा कम ही रखे!

5. विटामिन सी लें! 

Vitamin ‘C’ युक्त पदार्थ जैसे फल एसिडिक होते हैं, जो मूत्र मार्ग में इ.कोली बैक्टीरिया के विकास को रोकने में सहायक होते है! 

विटामिन युक्त फलों(नींबू, संतरा, अंगूर इत्यादि) का अधिक से सेवन करें! 

6. लहसुन का पाउडर

लहसुन के सेवन करने से कई प्रकार के संक्रमण और बीमारियां जड़ से खत्म हो जाती है! गार्लिक में एंटीबैक्टीरियल गुण पाया जाता है! जो बॉडी में बैक्टेरिया के इन्फेक्शन को समाप्त करने में सहायक होता है! 

रोज सुबह गुनगुने पानी के साथ लहसुन की 1 -2 कली का सेवन करें या आप लहसुन का पावडर बनाकर भी सेवन कर सकते है!

FAQ

Q.1 यूटीआई की जांच के लिए कौन कौन से टेस्ट किये जाते है! 

Urinary tract infection के जाँच निम्नलिखित टेस्ट के माध्यम से की जाती है जैसे;

  • अल्ट्रासॉउन्ड
  • ब्लड टेस्ट
  • Urodynamics (the study and measurement of the flow of urine in the urinary tract)
  • सिस्टोस्कोपी
  • डायग्नोस्टिक इमेजिंग

Q.2 यूटीआई कौन सी बीमारी है?

यह एक ऐसी बीमारी है जिसमे मनुष्य का यूरिन मार्ग में बैक्टीरियल इन्फेक्शन हो जाता है! जिसका असर किडनी, ब्लैडर और यूरेथ्रा में पड़ता है! 

यूरिनरी ट्रैक्ट इन्फेक्शन अधिकतर महिलाओ में होता है!

Q.3 यूटीआई होने पर क्या क्या खाना चाहिए?

इस प्रकार की परिस्थिति में सबसे पहले तो आपको पर्याप्त मात्रा में पानी पीना है! खट्टे फल खाएं! 

प्रोटीन युक्त चीजे खाएं! नारियल पानी पियें! जूस, सुप इत्यादि का सेवन करें!

Q.4 यूटीआई होने पर क्या क्या नहीं खाना चाहिए?

मूत्रमार्ग में संक्रमण होने पर कभी भी मसालेदार चीजों का सेवन न करें! चाय या कॉफ़ी बिलकुल भी न पिए और स्मोकिंग और शराब के सेवन से परहेज करें!

Q.5 UTI के ट्रीटमेंट के लिए कौन से दवा लेनी चाहिए?

सबसे पहले तो ध्यान रहे कोई भी दवा डॉक्टर्स की सलाह पर ही लें! कुछ एंटीबायोटिक्स ड्रग्स होती है जो संक्रमण को होने से रोकती है और बैक्टीरिया को खत्म करती है! जैसे;

  • Nitrofurantoin.
  • Sulfonamides (sulfa drugs).
  • Amoxicillin.
  • Cephalosporins.
  • Trimethoprim/sulfamethoxazole 
  • Doxycycline.
  • Quinolones (such as ciprofloxacin)

Q.6 यूरिन इन्फेक्शन कितने दिन में ठीक हो जाता है?

नार्मल यूटीआई हो तो घरेलू उपाय और परहेज करने से यह 4 -5 दिनों में ठीक हो जाता है! लेकिन अगर UTI गंभीर हो तो ठीक होने में कुछ अधिक समय लग सकता है!

निष्कर्ष – Conclusion

आज हमने बहुत ही महत्वपूर्ण विषय (Urinary Tract Infection kya hai) और इसके कारण, लक्षण और घरेलू उपचार के बारे में चर्चा की! 

UTI एक आम समस्या है जिससे अधिकतर महिलाये परेशान रहती है! यह संक्रमण होने पर पेट के निचले हिस्से में दर्द, कमजोरी चिड़चिड़ापन जैसी स्थिति शुरू होने लगती है! 

आपको इससे परेशान होने की आवश्यकता नहीं है आप अपने खानपान, शारीरिक स्वछता अवश्य ध्यान रखे और बॉडी को हाइड्रेट रखने के लिए खूब सारा पानी पियें!

पोस्ट(Urinary Tract Infection kya hai) पसंद आयी हो एक लाइक करना न भूलें और इस प्रकार की जानकारी सोशल मिडिया पर अवश्य शेयर करें! 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here